पद्मश्री और पद्मभूषण से सम्मानित गिरीश कर्नाड का हुआ निधन,प्रधानमंत्री और छग मुख्यमंत्री ने किया शोक व्यक्त-बैंगलोर-

अरविन्द तिवारी की रिपोर्ट

बैंगलोर — देश के जाने माने समकालीन लेखक, नाटककार, अभिनेता और फिल्म निर्देशक गिरीश कर्नाड का आज निधन हो गया। वे लंबे समय से बीमार चल रहे थे और कई बार अस्पताल में भर्ती कराये जा चुके थे। आज सुबह बैंगलोर स्थित अपने आवास पर उन्होंने अंतिम सांस ली। वे 1998 में ज्ञानपीठ पुरस्कार पाने वाले गिरीश कर्नाड पद्मश्री और पद्मभूषण से सम्मानित हो चुके हैं। कर्नाड को पिछले साल दिल्ली के तीनमूर्ति सभागार में अमर उजाला ने शब्द सम्मान समारोह में ‘आकाशदीप’ सम्मान से सम्मानित किया था। उनके निधन से पूरे साहित्य एवं सिनेमा जगत शोक व्याप्त है। कर्नाड ने हिंदी और कन्नड़ सिनेमा में अभिनेता , निर्देशक , स्क्रीन राईटर ,के तौर पर काम किया । उनको चार फिल्म फेयर अवार्ड भी मिले हैं । प्रधानमंत्री मोदी एवं छत्तीसगढ़ मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने भी दुख जताते हुये कहा कि गिरीश कर्नाड हरेक माध्यमों में अपनी बहुमुखी अभिनय के लिए याद किये जाते रहेंगे।

कई पुरस्कारों से हो चुके हैं सम्मानित

1972: संगीत नाटक अकादमी पुरस्कार
1974: पद्मश्री
1992: पद्मभूषण
1992: कन्नड़ साहित्य अकादमी पुरस्कार
1994: साहित्य अकादमी पुरस्कार
1998: ज्ञानपीठ पुरस्कार
2018: अमर उजाला ‘आकाशदीप’ सम्मान