बाबा राम-रहीम करेंगे खेती,मिल सकती है पैरोल,कुमार विश्वास ने ली चुटकी”खेती नहीं होगी तो फसल…

फाईल फोटो

नई दिल्ली-साध्वी यौन शोषण,हत्या और बलात्कार जैसे कुकृत्यों में जेल की सजा काट रहे हाई प्रोफाईल बाबा गुरमीत राम रहीम के जेल से बाहर आने का रास्ता साफ होता दिख रहा है.हरियाणा के जेल मंत्री के इशारो को अगर समझे तो यह संभव दिख रहा है.मामला यह है की गुरमीत राम रहीम ने प्रशासन से पेरोल की मांग की है.उसकी इस मांग के बाबत जब राज्य सरकार के मंत्री से पूछा गया तो उन्होंने कहा की,”जेल में बंद कोई भी अपराधी दो साल बाद पेरोल का हकदार होता है.अगर उसका चाल चलन जेल में ठीक रहता है तो वह अपने लिए दो साल बाद पेरोल मांग सकता है.”


राम रहीम की पैरोल को लेकर राज्य के जेल मंत्री कृष्ण पंवार ने कहा कि जेल में बाबा का आचरण अच्छा है. ऐसी रिपोर्ट एसपी जेल ने दी है. बाकी किसी कैदी को पैरोल देनी है या नहीं इसका फैसला कमिश्नर का होता है. हालात दोबारा न बिगड़ें इसको लेकर क्या कुछ प्लानिंग है. इसको लेकर कृष्ण पंवार ने कहा की उनका जो काम था उन्होंने वो किया है बाकी सिविल पुलिस व प्रशासन देखेगा.आपको बता दे की
रोहतक के सुनारिया जेल में सजा काट रहे डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत सिंह राम रहीम ने कृषि कार्य के लिए 42 दिन के लिए पेरोल मांगी है. पेरोल मामले पर सिरसा पुलिस अपनी रिपोर्ट सिरसा के डीसी को सौंपेगी. उसके बाद डीसी अपनी रिपोर्ट रोहतक के मंडल आयुक्त को देगी जिसके बाद राम रहीम की पेरोल पर फैसला होगा.
गौरतलब है की डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम रोहतक की सुनारिया जेल में साध्वी योन शोषण और पत्रकार छतरपति हत्याकांड मामले में सजा काट रहा है. राम रहीम ने जेल अधीक्षक से डेरे के कृषि कार्यो के लिए 42 दिनों की पेरोल की मांग की थी, जिसके बाद जेल अधीक्षक ने सिरसा के डीसी को पत्र लिखकर रिपोर्ट देने के लिए कहा था. इसके आधार पर राम रहीम को पेरोल दी जानी है.डीसी सिरसा ने पुलिस को आदेश दिए थे कि वह कानून व्यवस्था को लेकर अपनी रिपोर्ट  पेश करे.
डीएसपी राजेश कुमार ने बताया कि इस मामले में एसएचओ सदर और एसएचओ सिटी को लिखा गया था. दोनों थाना प्रभारी अपनी रिपोर्ट देंगे. उसके बाद पुलिस अधीक्षक अपनी रिपोर्ट डी सी सिरसा को देंगे.

इस मामले पर राज्य के रेल मंत्री के बयान के बाद मशहुर कवि और युवाओं मे खासे लोकप्रिय कुमार विश्वास ने अपनी आधिकारीक फेसबुक पेज पर टिप्पणी की है की”“बलात्कार और हत्या के दोषी राम रहीम को मिलेगी पेरोल? जेल मंत्री बोले-बाबा का आचरण अच्छा !”
200 सुनवाई और दशकों तक चले मुक़दमे के बाद हत्या-बलात्कार के आरोप में न्यायालय द्वारा सिद्ध हुआ मुजरिम राम-रहीम “खेती” करने के लिए सरकारी-अनुमति पा कर जेल से बाहर आना चाहता है ! सही बात है, चार महीने बाद चुनाव है वो “खेती” नहीं करेगा तो राजनेता “फ़सल” कैसे काटेंगे ? 👎
(फिर कह रहा हूँ, नेताओं-दलों के चिंटू न बनकर इस देश के बेटे होकर सोचना/जीना शुरू करिए नहीं तो अंधकारपूर्ण भविष्य प्रतिक्षा में है !”