इंसेफेलाइटीस का कहर जारी,केंद्रीय मंत्री की मौजूदगी में ही दो मासूमों की मौत-

पटना-मुजफ्फरपुर में इंसेफेलाइटीस यानी चमकी बुखार से होने वाली मौतों का आकड़ा बढ़ता जा रहा है। आज दो बच्चियों ने अस्पताल में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉक्टर हर्षवर्धन और अश्विनी चौबे समेत बिहार के मंत्री मंगल पांडेय की मौजूदगी में दम तोड़ दिया।
दिल्ली से मुजफ्फरपुर पहुंचे स्वास्थ्य मंत्री डॉक्टरों की टीम के साथ आईसीयू का जायजा लेने के दौरान बच्ची की मौत हो गई। मृतक बच्ची निशा की उम्र 5 साल बताई जाती है जो कि राजेपुर की रहने वाली थी। बच्ची की मौत होते ही उसके परिजन रोने लगे और आईसीयू में चीख पुकार मच गई। मंत्रियों की मौजूजगी में ही एक और बच्ची की मौत हुई जिसका नाम मुन्नी कुमारी है। 5 साल की मुन्नी कोदरिया की रहने वाली थी। मुन्नी की मौत के बाद उसकी मां का रो-रोकर बुरा हाल था।


इन दोनों बच्चियों की मौत स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन, मंगल पांडेय और अश्विनी चौबे की मौजूदगी में हुई। इस मौत के साथ ही सरकारी आंकड़ा बढ़कर 85 हो गया है। मुजफ्फरपुर समेत राज्य के 12 जिलों में इस बीमारी का कहर लगातार बढ़ रहा है और अब तक कई मासूम तड़प-तड़प कर दम तोड़ चुके हैं। मुजफ्फरपुर में इंसेफेलाइटीस से हुई बच्चों की मृत्यु पर शोक संवेदना जाहिर करते हुए मुख्यमंत्री ने इस भयंकर बीमारी से मृत हुए बच्चों के परिजनों को मुख्यमंत्री राहत कोष से शीघ्र ही चार-चार लाख रूपये अनुग्रह अनुदान देने का निर्देश दिया है।स्वास्थ्य मंत्री,केंद्रीय स्वास्थ्य राज्य मंत्री और बिहार सरकार के स्वास्थ्य मंत्री ने अस्पताल का निरीक्षण और पीड़ित बच्चों की दुर्दशा देखने के बाद एक प्रेस कॉन्फ्रेंस को भी संबोधित किया.


टीम रिपोर्ट-