Category: अंतिम संबोधन

हमें अपने पूर्वजों एवं आधुनिक राष्ट्र निर्माताओं के पदचिन्हों पर है चलना – महामहिम राष्ट्रपति

अरविन्द तिवारी की रिपोर्ट ➖➖➖➖➖➖➖➖ नई दिल्ली – उन्नीसवीं शताब्दी के दौरान पूरे देश में पराधीनता के विरुद्ध अनेक विद्रोह हुये। देशवासियों में नई आशा का संचार करने वाले ऐसे विद्रोहों के अधिकांश नायकों के नाम भुला दिये गये थे। Read More