साँसद नुसरत जहाँ के खिलाफ फतवा जारी

अरविन्द तिवारी की रिपोर्ट

नई दिल्ली — टीएमसी सांसद नुसरत जहाँ मंगलवार को जब शपथ लेने संसद पहुँचीं तो उन्होनें माथे पर सिंदूर, हाथों में मेहंदी और चूड़ा पहना हुआ था। उनकी फोटो सोशल मीडिया पर वायरल हो गई थी जिसके बाद देवबंदी उलेमा ने इस पर एतराज जताते हुए नुसरत जहाँ के खिलाफ फतवा जारी कर दिया था। बंगाल के बशीरहाट से निर्वाचित टीएमसी सांसद के हिंदू लड़के से विवाह करने और उसके बाद मंगलसूत्र पहनने पर ऐतराज जताते हुए सहारनपुर के इस्लामिक शिक्षण संस्थान दारुल उलूम देवबंद ने नुसरत के मंगलसूत्र पहनने पर फतवा जारी किया है।
इस मामले में अब साध्वी प्राची सांसद नुसरत के समर्थन मे साध्वी ने नुसरत जहाँ के मंगलसूत्र पहनने पर दिये मुस्लिम फतवे पर जोरदार तंज कसा है।साध्वी प्राची ने कहा है कि अगर मुस्लिम महिलाएं किसी हिंदू से शादी कर लें और उसके बाद बिंदी-मंगलसूत्र पहने तो ये मुस्लिम मौलवी उसे हराम कहते हैं, लेकिन अगर कोई मुस्लिम, लव जिहाद के जरिए हिंदू युवती से शादी कर उसे बुर्का पहनाते हैं वह हराम नहीं है, वह जायज होता है।
साध्वी प्राची ने कहा कि अगर मुस्लिम मौलवियों को फतवे ही जारी करने थे तो तीन तलाक के समर्थन में करते लेकिन ऐसा नहीं हुआ। बल्कि इन्होंने नुसरत जहां के खिलाफ फतवा जारी कर दिया है कि उसने मंगलसूत्र क्यों पहना ?