वतन लौटे अभिनंदन,हुआ जोरदार स्वागत

नई दिल्ली-विंग कमांडर अभिनंदन वर्धमान के पाकिस्तानी कैद में होने की खबर से ही भारतवासी उनकी सलामती और वापसी की दुआ कर रहे थे,आज उनका इंतजार खत्म हुआ।भारत पाकिस्तान के उपजे विवाद के बीच विंग कमांडर अभिनंदन पाकिस्तान की ओर से जेनेवा संधि के तहत रिहा होकर आज अटारी वाघा बॉर्डर के रास्ते अपने वतन भारत पहुँचें,जिनेवा कन्वेंशन के तहत पाकिस्तान के पास अभिनंदन को वापस करने के अलावा दूसरा कोई विकल्प ही नहीं था।कमांडर को पाकिस्तान के अधिकारियों ने भारतीय वायु सेनाधिकारियों को सौंपा।उन्हें लेने के लिये एयर वाइस मार्शल आर० जी० के० कपूर और प्रभाकरण दोनों विंग कमांडर और एक मेडिकल टीम भी बॉर्डर पर पहुंची थी।कमांडर के पहुँचते ही उनकी मेडिकल जाँच हुई उसके बाद इनकी वापसी की कागजी कार्यवाही पूरी की गयी।अभिनंदन के स्वदेश लौटने को लेकर अटारी बाघा बार्डर पर भव्य तैयारियां की गयी थी।काफी संख्या में लोग राष्ट्रीय ध्वज लेकर बॉर्डर के पास स्वागत करने के लिये खड़े थे सभी देश भक्ति गीत गा रहे थे और नाचते हुये ढोल नगाड़े बजा रहे थे और भारत माता की जयकारे भी लगा रहे थे।बॉर्डर क्षेत्र में कड़ी सुरक्षा व्यवस्था रखी गई थी।विंग कमांडर अभिनंदन की सुरक्षा के मद्देनजर आम लोगों और मीडिया को बाघा बार्डर से बाहर रखा गया था।भारत ने बार्डर पर बिटींग द रिट्रीट समारोह को आज स्थगित कर दिया था।बार्डर पर बेहद ही खुशी का माहौल नजर आया लोग कमांडर अभिनंदन के अभिनंदन करने के लिये बेशब्री से इंतजार कर रहे थे।इनके स्वागत के लिये पूरा देश पलके बिछाये बैठा था।अभिनंदन की भारत वापसी को लेकर आज देश भर में जश्न का माहौल देखने को मिला। भारत पाकिस्तान के बीच सड़क मार्ग से सीमा पार करने का यही एक मात्र स्थान है जो अमृतसर से 32 किलोमीटर और लाहौर से 22 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है।अभिनंदन के स्वागत के लिये परम विशिष्ट सेवा पदक सहित कई सम्मान प्राप्त करने वाले उनके पिता सेवानिवृत्त एयर मार्शल वर्धमान और माता डॉ शोभा वर्धमान भी अपने परिवार के साथ पहुंचे थे।अभिनंदन को देखते ही उनके माता पिता भावुक हो गए इस दौरान उनकी मां की आंखें नम हो गई यहाँ से कमाँडर को अमृतसर एयरबेस और वहाँ से फिर वायुसेना के विमान से दिल्ली ले जाया जायेगा। जिनेवा कन्वेंशन के तहत रेड क्रॉस सोसाइटी की जांच अनिवार्य होती है यह जांच इसलिए की जाती है की कमांडर को कोई शारीरिक या मानसिक प्रताड़ना तो नहीं दिया गया था या उन्हें किसी तरह के कोई ड्रग्स तो नहीं दिये गये हैं।दिल्ली पहुंचने पर वायु सेना अपनी टीम से सबसे पहले उनकी मेडिकल जांच करेगी इसके बाद वायु सेना के अफसरों से उनकी पाकिस्तान में बीते दो दिन के हालातों की पूरी पूछताछ की जायेगी।इस पूछताछ में वायु सेना अधिकारी सहित रा,आईबी,सेना,गृह मंत्रालय,रक्षा विभाग के वरिष्ठ अधिकारी भी शामिल रहेंगे ।
रिपोर्ट-अरविन्द कुमार