राजस्थान के बाड़मेर मे जोरदार आंधी तूफान,रामकथा का पंडाल गिरा,दर्जनो लोगों की मौत-

अरविन्द तिवारी की रिपोर्ट

बाड़मेर-राजस्थान के बाड़मेर जिले के जसोल गांव में आंधी-तूफान से वहां चल रहे रामकथा का पंडाल गिर गया.अब तक प्राप्त सुचना के अनुसार पांडाल मे दबने और करंट लगने से 15 श्रद्धालुओं की मौत हो गई है,हालांकी मृतको की संख्या बढ़ने की आशंका है.
बाड़मेर में आज शाम लगभग चार बजे आये आंधी तूफान ने जबर्दस्त कहर बरपाया है. मिली सुचना के मुताबिक जिले के जसोल गांव में रामकथा चल रही थी.श्रद्धालुओं के लिए बनाये गए पांडाल मे लोहे का इस्‍तेमाल किया गया था जीसके कारण इसमें करंट फैल गया. पांडाल के नीचे दबने और करंट लगने से अब तक 15 श्रद्धालुओं की मौत हो गई है. चार दर्जन से ज्यादा लोग घायल बताये जा रहे हैं. हादसे के बाद अफरा-तफरी का माहौल है.घटना की सूचना मिलते ही स्‍थानीय प्रशासन के द्घारा घटनास्‍थल पर पहुंच कर राहत-बचाव कार्य शुरू कर दिया गया है.बताया जाता है की गांव के स्कूल परिसर में इस रामकथा का आयोजन किया गया था,जिसमें हजारों की संख्या में लोग शामिल हुए थे.श्रद्धालुओं के लिए वहां करीब 200 फीट का लोहे का पंडाल तैयार किया गया था. दोपहर बाद अचानक से मौसम के रुख में बदलाव हुआ.करीब पौने चार बजे तेज आंधी-तूफान आया,जिससे पंडाल गिर गया. इससे बड़ी संख्‍या में श्रद्धालु दब गए. आंधी-तूफान के साथ ही बारिश भी शुरू हो गई.पंडाल में बिजली उपकरण लगे होने के कारण उसमें करंट फैल गया.
प्रारंभिक सूचना के अनुसार पांडाल में दबने और करंट लगने से अब तक 15 श्रद्धालुओं की मौत हो गई है. चार दर्जन से ज्यादा श्रद्धालु गंभीर रूप से घायल हैं. घायलों का बालोतरा के विभिन्न स्थानीय अस्पतालों मे ईलाज जारी है.प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने इस घटना पर ट्वीट कर गहरा दुख जताया है.