युवराज सिंह ने छलकते आँखों से अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट को कहा अलविदा-

अरविन्द तिवारी की रिपोर्ट

मुंबई — हर मैच का डटकर मुकाबला करने वाले और देश को दो विश्व कप दिलाने में अहम् भूमिका निभाने वाले टीम इंडिया के दिग्गज ऑलराउंडर युवराज सिंह ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट को अलविदा कह दिया है। युवराज ने आज साउथ मुंबई होटल में आयोजित प्रेस कांफ्रेंस में यह ऐलान किया । क्रिकेट को अलविदा कहते वक्त उनके आँखों से आँसू छलक पड़े । कभी 06 गेंद में 06 छक्का लगाकर इतिहास बनाने वाला महान क्रिकेटर था । युवराज ने अपने कैरियर की शुरुआत सौरव गांगुली की कप्तानी में साल 2000 में नैरोबी में की थी । उस समय केन्या के खिलाफ पदार्पण वनडे मुकाबले में उनकी बैटिंग नही मिली थी । युवी ने अपना आखिरी वनडे दो साल पहले 30 जून 2017 को वेस्टइंडीज के खिलाफ खेला था । युवराज सिंह टीम इंडिया के ऐसे चुनिंदा खिलाड़ियों में से रहे जिन्होंने वनडे और टी-20 में जबरदस्त सफलता हासिल की । उन्होंने देश के लिये 304 वनडे खेलकर 8701 रन बनाये और 14 शतक भी जड़े । वनडे क्रिकेट में युवराज के नाम 111 विकेट भी हैं । वहीं टी-20 क्रिकेट में युवराज ने 58 मैच खेलकर 117 रन बनाये । इस प्रारूप में उनके नाम 08 अर्धशतक भी हैं।टी-20 में उन्होंने 28 विकेट चटकाये हैं। टेस्ट क्रिकेट में युवराज का बल्ला खामोश रहा है उन्होंने 40 टेस्ट खेलकर 1900 रन बनाये जिनमें 03 शतक भी शामिल हैं । 1983 में कपिल देव की कप्तानी में वर्ल्ड कप जीतने के बाद से विश्व खिताब के लिए तरस रही टीम इंडिया का कप का सूखा युवराज सिंह की बदौलत ही खत्म हो सका । तब टीम इंडिया ने 2007 में टी-20 वर्ल्ड कप में उन्होंने 6 मैचों में 148 रन बनायेऔर मैन ऑफ द सीरीज रहे । इसी टूर्नामेंट में उन्होंने इंग्लैंड के तेज गेंदबाज स्टुअर्ट ब्रॉड की छह गेंदों पर छह छक्के जड़े थे । वहीं 2011वर्ल्ड कप में भी युवराज मैन ऑफ द टूर्नामेंट रहे थे ।

माना जा रहा है कि भारत के सर्वश्रेष्ठ वनडे क्रिकेटरों में से एक युवराज ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से इसलिए संन्यास लिया क्योंकि वे आईसीसी से मान्यता प्राप्त विदेशी टी-20 लीग में फ्रीलांस करियर बनाना चाहते हैं. बीसीसीआई के एक सीनियर अधिकारी ने हाल में बताया था कि युवराज अंतरराष्ट्रीय और प्रथम श्रेणी क्रिकेट से संन्यास के बारे में सोच रहे हैं. वो जीटी-20 (कनाडा) और आयरलैंड व हालैंड में यूरो टी-20 स्लैम टूर्नामेंट में खेलने पर विचार कर रहे हैं. उन्हें इन टूर्नामेंटों में खेलने की पेशकश मिल रही हैं.