मानवता के जज्बे को सलाम-मुजफ्फरपुर-

मुजफ्फरपुर-चमकी बुखार के प्रकोप से त्रस्त जिले के लोगो के लिए मसीहा और अन्य चिकित्सकों के लिए नजीर बन रहे है डा० कफील खान-> पिछले पांच दिनो से गोरखपुर से आकर डा० कफील लगातार इंसेफेलाइटीस से पीड़ित मासुमों का इलाज कर रहे है और जरूरी चिकित्सकीय सुविधाएं उपलब्ध करवा रहे हैं.जिले के कई गांवो मे जाकर मुफ्त ईलाज और लोगो को जागरूक कर रहे है.कल डा० कफील खान की टीम के द्वारा नथुनी चौक सुमेरा,मुजफ्फरपुर मे कथीत चमकी बीमारी के जाँच शिविर का आयोजन किया गया,जिसमे 427 बच्चों की जाँच कर ज़रूरी दवाईयां और बचाव की जानकारी दी गई. बिते पाँच दिनो मे 1500 से ज़्यादा बच्चों की जाँच कर उनको ज़रूरी दवाइयाँ दी गई है.

सात अलग-अलग गाँवों में चौपाल लगा कर चमकी बुखार के बारे में जानकारी दी गयी जहां सभी परिवारों को बुखार नापने का डिजिटल थर्मामीटर और ORS भी निशुल्क दिया गया .कल मुजफ्फरपुर मे मानसुन ने जोरदार दस्तक दी,भारी वर्षा के कारण कैम्प एक घंटे के लिए रोकना पड़ा,पर डा० खान कहां रुकने वाले थे.

उन पर तो जैसे जुनुन सवार हो बच्चों को बचाने का.बारिश मे भीगतें हुए भी लोगो को जागरूक करने मे लगे रहे. ऐसे मानवता के सेवक को मुजफ्फरपुर की जनता सलाम करती है जिन्होंने अपने जीवन का लक्ष्य हि मानव जाति की रक्षा करना मान लिया हो. शायद बिहार के चिकित्सक भी डा० खान के जज्बे को देखकर अपने निजी फायदे को छोड़ मानवता को बचाने आगे आये.
रिपोर्ट-मनीष तिवारी