ममता मंत्रीमंडल में नौ नये मंत्रियों को मिली जगह

अरविन्द तिवारी की रिपोर्ट
➖➖➖➖➖➖➖➖
कोलकाता – पश्चिम बंगाल में शिक्षक भर्ती घोटाले में गिरफ्तार पार्थ चटर्जी को हाल में मंत्री पद से हटाये जाने के बाद आखिरकार टीएमसी मुखिया वमुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने अपनी घोषणा के मुताबिक बुधवार को अपने मंत्रिमंडल में फेरबदल किया। पांच कैबिनेट , दो स्वतंत्र प्रभार व राज्यमंत्री के रूप में कुल नौ नये मंत्रियों ने राजभवन में आयोजित समारोह में शपथ ली , इनमें से आठ नये चेहरे हैं। कार्यवाहक राज्यपाल एल गणेशन ने सभी नये मंत्रियों को पद एवं गोपनीयता की शपथ दिलाई। मंत्रिपरिषद विस्तार को लेकर आयोजित इस कार्यक्रम में भाजपा छोड़कर तृणमूल कांग्रेस में शामिल होने वाले पूर्व केंद्रीय मंत्री व बालीगंज से विधायक बाबुल सुप्रियो समेत नैहाटी के पार्थ भौमिक , दुर्गापुर पूर्व से विधायक डा० प्रदीप मजूमदार , दिनहाटा के उदयन गुहा और जंगीपाड़ा विधायक स्नेहाशीष चक्रवर्ती ने कैबिनेट मंत्री के रूप में शपथ ली। वहीं बीरबाहा हांसदा और विप्लव राय चौधरी ने कैबिनेट मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) के रूप में शपथ ली। इनमें बीरबाहा हांसदा पहले राज्य मंत्री थी और अब उनका प्रमोशन कर उन्हें स्वतंत्र प्रभार का मंत्री बनाया गया है। इसके अलावा तजमुल हुसैन और सत्यजीत राय चौधरी ने राज्यमंत्री के रूप में शपथ ली। वर्ष 2021 में सरकार बनाने के बाद ममता का यह सबसे बड़ा फेरबदल है। राजनीतिक विश्लेषकों के अनुसार ममता बनर्जी की नजर लोकसभा 2024 के चुनाव पर है , जातीय और धार्मिक संतुलन को बनाये रखने के लिये वो काफी सक्रिय नजर आ रही हैं। उल्लेखनीय है कि पश्चिम बंगाल में कई मंत्रियों के पद लंबे समय से रिक्त हैं। सुब्रत मुखर्जी , साधन पांडे सरीखे नेताओं की मौत के बाद उनकी जगह किसी को मंत्री नहीं बनाया गया। इसी बीच अभी पार्थ चटर्जी भ्रष्टाचार के मामले में गिरफ्तार किये गये हैं। स्कूल सर्विस कमीशन (एसएससी) भर्ती घोटाला में पार्थ की गिरफ्तारी हुई तो उन्हें मंत्रिमंडल से हटा दिया गया।ममता सरकार ने यह कैबिनेट फेरबदल ऐसे वक्त में किया है जब टीएमसी पार्टी मंत्री रहे पार्थ चैटर्जी ईडी यानि प्रवर्तन निदेशालय की हिरासत में चल रहे हैं। पार्थ और उनकी करीबी अर्पिता मुखर्जी का नाम शिक्षक घोटाले में आया है। दोनों इस वक्त ईडी की हिरासत में हैं। ईडी के एक्शन के बाद पार्थ चटर्जी को मंत्रीपद से हटा दिया गया था। तब ममता बनर्जी ने पहले ही इशारा दिया था कि वह अपने मंत्रिमंडल में कुछ नये चेहरों को शामिल कर सकती हैं। सीएम ममता बनर्जी पंचायत , जन स्वास्थ्य अभियांत्रिकी , उपभोक्ता मामले और स्वयं सहायता समूह विभाग का कार्यभार वर्तमान में खुद सम्हाल रही हैं। ममता सरकार में अभी 21 कैबिनेट मंत्री , 10 स्वतंत्र प्रभार वाले राज्यमंत्री और नौ राज्यमंत्री हैं। विधानसभा की सदस्य संख्या के अनुसार राज्य में 44 मंत्री बनाये जा सकते हैं।

Leave a Reply