बेहतर समाज के लिए जड़ से उखाड़े नशा-डॉ॰ मनोज कुमार

“नशा लेनेवाले से घृणा नही नशीले पदार्थों से बनायें दूरी।”
आज अंतराष्ट्रीय औषध दुरूपयोग व इसके अवैध कारोबार विरोध दिवस पर यह नारा मेरे द्वारा दिया गया।विश्व में आज नशा और इसके अवैध व्यापार के विरोध के रूप में समाज को आगे आने की दरकार है। अंतर्राष्ट्रीय संगठन इस अवसर को न्याय के लिए स्वास्थ्य,स्वास्थ्य के लिए न्याय विषयक पर जोर दे रहा है।पूरा विश्व सचेत हो चुका है। खासतौर से हमारे समाज के बच्चे भी किसी न किसी नशे की चपेट में है।

लोगों को स्वास्थ्य के प्रति न्याय की दरकार।

अब समय आ गया हैं कि लोग नशा का त्याग करें और अपने स्वास्थ्य के साथ न्याय करें।अब हमारे युवाओं के बीच भी नशा लेने का प्रचलन बढ रहा है।देशी-विदेशी शराब,गांजा-भांग व अन्य तरह के नशे चोरी-छिपे लिए जा रहे है। गांव व शहर में महिलाओं द्वारा भी बहुत तरह के नशे लिए जा रहे है।पटना व इसके आस-पास भी परंपरागत नशे का कारोबार फल-फूल रहा है।

बढ रहे मामले।

भारत सरकार का नेशनल ड्रग्स डिपेनडेंस सेंटर (एम्स,दिल्ली)की जारी एक रिपोर्ट के मुताबिक फरवरी 2019 तक विभिन्न नशा लेने या उसकी गिरफ्त में आने वाले लोगों पर शोध किया गया।जिसके आंकड़े चौकाने वाले थे। अध्ययन के हिसाब से भारत में 10 वर्ष तक के करीब 16 करोड़ लोग विभिन्न तरह के नशीले पदार्थो का सेवन कर रहें है।इसी प्रकार 3.1करोड़ लोग गांजे का सेवन कर रहें है।जो सभी उम्र के हैं। इसी रिपोर्ट के मुताबिक ओपियाड 2.06 प्रतिशत लोग ले रहें है।अबतक नशा से बचने के लिए 0.55फीसदी लोग ही नशामुक्ति की शरण में हैं। जो काफी चिंताजनक है। इस रिपोर्ट पर गौर करें तो पता चलता हैं कि अभी 85 लाख लोग इंजेक्शन द्वारा नशा अपने शरीर में उतार रहें है।

बिहार भी अछूता नही।

विभिन्न तरह के नशा लेनेवाले में बिहार समेत पंजाब,आसाम,दिल्ली, हरियाणा,मणिपुर,उत्तर प्रदेश, सिक्किम,मिजोरम में नशे का प्रभाव बढ रहा है।

पहचाने नशा लेनेवाले की।

नशा लेने वाले की पहचान करना समूचे समाज की नैतिक जिम्मेदारी है। ज्यादातर नशा लेनेवाले अकेला रहना चाहता है। वह अपने आप में सिमटा-सिकुड़ा सा डरा या किसी को डराने वाला रोल में होता है। ऐसे लोग अपनी समस्याएं जगजाहिर नही होने देते।इनके भूख व प्यास में जबरदस्त कमी देखी जाती है।

संभव हैं समाधान ।

जबतक समाज में नशा लेनेवाले से नफरत होगी तबतक वो लोग नशे को छोड़ने में असुरक्षित महसूस करेगें।अब समय आ गया हैं की नशा लेनेवाले वाले को बीमार की तरह देखा जाये।जरूरत इस बात की हैं की परिवार का सकारात्मक सहयोग इन्हें मिले ताकी इन्हे नशा छोड़ने में सहूलियत हो ।
——डॉ॰ मनोज कुमार,बिहार के ख्याति प्राप्त मनोवैज्ञानिक
हैं। इनका संपर्क नं 9835498113 हैं।