प्रख्यात रेत कलाकार मधुरेन्द्र ने कैनवास पर आकृति खीच शीला दीक्षित को दी श्रंद्धाजलि-

मशहूर कलाकार मधुरेन्द्र ने अपनी भावपूर्ण अंदाज में दिल्ली की पूर्व सीएम शीला दीक्षित को दी श्रंद्धाजलि

घोड़ासहन,पूर्वी चंपारण- दिल्ली की पूर्व सीएम व कांग्रेस पार्टी के के 81 वर्षीया अनुभवी अध्यक्षा नेत्री शीला दीक्षित का निधन दिल्ली के एस्कॉर्ट अस्पताल में दिल का दौरा पड़ने से शनिवार को दोपहर में उनकी निधन हो गया.


हिंदुस्तान के एक ऐसी शिल्पकार की अपूरणीय छति से आहत हो कर पूर्वी चंपारण जिले के घोड़ासहन में शनिवार की शाम में कलाकर मधुरेन्द्र ने गहरी संवेदना व्यक्त करते हुए शीला दीक्षित की चित्र को अपनी कैनवास पर पेंसिल से उकेर कर उन्हें भावभीनी श्रंद्धाजलि रंगों के माध्यम से दि.मशहूर सैंड आर्टिस्ट मधुरेन्द्र अपनी कला से सदैव समाज को एक नया संदेश देते हैं.


बता दें कि शीला दीक्षित पहली सीएम थीं जो लगातार तीन बार दिल्ली की सीएम रहीं.उन्होंने केरल के राज्यपाल का पद भी संभाला फिर 1998 से 2013 तक दिल्ली की सीएम रही थीं.शीला दीक्षित का जन्म 31 मार्च 1938 में हुआ था.काफी लंबे समय से बीमार चल रही थीं.उनका इलाज दिल्ली के एस्कॉर्ट अस्पताल में चल रहा था.20 जुलाई को दोपहर में
शीला दीक्षित ने अस्पताल में अंतिम सांस ली.

वर्तमान में दिल्ली प्रदेश कांग्रेस की अध्यक्ष थीं.कांग्रेस की कद्दावर नेता रहीं शीला दीक्षित का जन्म 31 मार्च 1938 को पंजाब के कपूरथला में हुआ था.
गौरतलब हो कि उन्होंने दिल्ली के कॉन्वेंट ऑफ जीसस एंड मैरी स्कूल से पढ़ाई की और फिर दिल्ली यूनिवर्सिटी के मिरांडा हाउस कॉलेज से मास्टर्स ऑफ आर्ट्स की डिग्री हासिल की.शीला दीक्षित साल 1984 से 1989 तक उत्तर प्रदेश के कन्नौज से सांसद रहीं. बतौर सांसद वह लोकसभा की एस्टिमेट्स कमिटी का हिस्सा भी रहीं.