छग की कत्थक नृत्यांगना अनुराधा दुबे अमेरिका में हुई सम्मानित-रायपुर-

अरविन्द तिवारी की रिपोर्ट

रायपुर — कत्थक नृत्यांगना अनुराधा दुबे ने हाल ही में अमेरिका के न्यू जर्सी शहर में दो दिवसीय कथक नृत्य की प्रस्तुति दी। अंतर्राष्ट्रीय हिन्दी संस्थान न्यूजर्सी अमेरिका ​के तत्वाधान में यह कल्चरल प्रोग्राम का आयोजन 10—11 मई 2019 को रॉयल अलबर्ट पैलेस फोर्ड में हुआ।

अनुराधा दुबे ने डॉक्टर धर्मवीर भारती की रचना कनुप्रिया को कत्थक शैली में पेश किया। एक घंटे की परफॉर्मेंस में इन्होंने राधा-कृष्ण के प्यार, विरह और वेदना की प्रस्तुति दी। पं. तिलकराज शर्मा मेमोरियल ट्रस्ट की ओर से अंतरराष्ट्रीय कत्थक नृत्यांगना डॉ. अनुराधा दुबे को ट्रस्ट के सर्वोधा अंतरराष्ट्रीय सम्मान नृत्य रत्न सृजन शिखर सम्मान 2019′ एवं Excellent performance, International, IHA Award 2019 से विभूषित किया गया। इस मौके पर विश्व प्रसिद्ध मूर्तिकार पद्मभूषण राम वी.सुतार, महाराष्ट्र गुजरात में यूनिटी ऑफ स्टेच्यू, सरदार पटेल की प्रतिमा का निर्माण करने वाले एवं पद्मश्री पंडित भजन सोपोरी जी (दिल्ली) और केन्द्रीय हिंदी संस्थान के अध्यक्ष डॉ.कमलकिशोर गोयनका ( दिल्ली) विशेष रूप से उपस्थित थे ।
उल्लेखनीय है कि अनुराधा दुबे अभिनीत फिल्म महूँ कुँवारा तहूँ कुुँवारी इन दिनों सिनेमाघरों में धूम मचा रही है इस फिल्म में अनुराधा दुबे ने हीरोईन एल्सा घोष की मॉं की भूमिका निभायी है। इस फिल्म के साथ अनुराधा दुबे का दिलचस्प किस्सा जुड़ा हुआ है। दर असल एल्सा की मां की भूमिका एक्ट्रेस उपासना वैष्णव को निभानी थी और अनुराधा को हीरो आकाश सोनी की मां का किरदार करना था। किसी और फिल्म की शूटिंग में व्यस्त रहने के कारण उपासना महूँ कुँवारा तहूँ कुँवारी नहीं कर पायी और उनका किरदार अनुराधा दुबे को करना पड़ा। फिर आकाश सोनी की मां की भूमिका निभाने अंजलि सिंह को मुम्बई से यहां बुलाया गया। अनुराधा ने फोन पर कहा कि वह अमेरिका से लौटकर महूँ कुँवारा तहूँ कुँवारी की सफलता का जश्न मनायेंगी। उन्हें अब अपनी फिल्म “हँस झन पगली फँस जाबे ” के प्रदर्शन का बेसब्री से इंतजार है। इस फिल्म के डायरेक्टर सतीश जैन है।