गांवों का विकास और किसानों की समृद्धि हमारी पहली प्राथमिकता : श्री बघेल

*मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने जलेश्वर महादेव की पूजा-अर्जना कर प्रदेश की खुशहाली की कामना की*
रायपुर(कवर्धा)-महाशिव रात्रि के पावन अवसर पर आज प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने पण्डरिया विकासखंड के धार्मिक स्थल डोंगरिया में जलेश्वर महादेव की पूजा-अर्चना की और छत्तीसगढ़ की तरक्की तथा जनता की सुख-समृद्धि की कामना की।उन्होंने जिला कुर्मी समाज द्वारा आयोजित किसान सम्मेलन एवं सम्मान समारोह में किसानों को अल्प कालीन कृषि ऋण माफी योजना के तहत प्रमात्र पत्र वितरित किए। इस योजना से जिले के 81 हजार 573 किसान लाभान्वित हुये हैं।समारोह में कुर्मी समाज सहित विभिन्न समाजों द्वारा विशाल पुष्प हार से मुख्यमंत्री का भव्य स्वागत किया गया। इस अवसर पर वन,खाद्य एवं परिवहन मंत्री मोहम्मद अकबर, पंडरिया विधायक श्रीमती ममता चन्द्राकर एवं पूर्व विधायक श्री योगेश्वर राज सिंह सहित अनेक जनप्रतिनिधि और गणमान्य व्यक्ति उपस्थित थे।
मुख्यमंत्री श्री बघेल ने देवाधिदेव महादेव की जयकारा के साथ सभा को संबोधित करते हुये कहा कि गांवों का विकास और किसानों की समृद्धि हमारी पहली प्राथमिकता है।उन्होंने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के सपनों की भारत को याद दिलाते हुये कहा कि भारत की आत्मा गांवों में बसती है। गांधी जी गांवों के विकास के लिए खुद काम करते थे। हमने भी “छत्तीसगढ़ की चार चिन्हारी नरवा, गरूवा, घुरवा और बाड़ी एला बचाना है संगवारी“ की योजना पर काम शुरू कर दिया है।इसके तहत नदी-नालों का संरक्षण कर भू-जल स्तर में वृद्धि,पशुधन संरक्षण के तहत गौठान विकास,जैविक खाद निर्माण एवं बायो गैस तैयार कर गांवों को स्वावलंबी एवं समृद्धि बनाएंगे।उन्होंने मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने के दो घंटे के भीतर किसानों का कर्जमाफी सहित दो माह के अन्दर आधे से ज्यादा वादे पूरे करने की जानकारी दी।उन्होंने कहा कि हम चरण पादुका,मोबाईल, टिफीन वितरण नहीं करेंगे, बल्कि हितग्राहियों को नगद राशि देंगे ताकि वे अपनी पंसद से सामन खरीद सके।श्री बघेल ने कहा कि छत्तीसगढ़ खनिज एवं वन संपदा से भरपूर प्रदेश है।यहां कृषि एवं वनौषधि पर आधारित प्लांट बनायेंगे।उन्होंने छत्तीसगढ़ की पहचान राष्ट्रीय स्तर पर पहुंचाने की बात कहते हुये कहा कि दिल्ली स्थित छत्तीसगढ़ भवन में छत्तीसगढ़ी व्यंजनों-ठेठरी, खुरमी, चीला, चौसेला आदि भी मिलनी चाहिए।
समारोह में खाद्य मंत्री श्री अकबर ने अपने संबोधन में कहा कि मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने दो माह के भीतर 35 हजार करोड़ रूपए से ज्यादा के वायदे पूरा किया गया।उन्होंने कहा कि वादे के तहत हर परिवार को राशन कार्ड के दायरे में लाकर हर महीने 35 किलो चावल देंगे।किसी का चावल कम नहीं होगा।हम कोटवार का ही नहीं-कलेक्टर का भी राशन कार्ड बनायेंगे,चाहे वे चावल ले या नहीं लें।उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री ने पद की शपथ लेने के दो घंटे के भीतर प्रदेश के किसानों का 10 हजार दो सौ करोड़ रूपये का कर्ज माफी किया है।मुख्यमंत्री ने अपने वादे के मुताबिक किसानों से समर्थन मूल्य पर 25 सौ रूपये क्विंटल में निर्धारित लक्ष्य से ज्यादा धान खरीदा है।श्री अकबर ने पांच डिसमिल से कम जमीन की रजिस्ट्री पर लगी रोक हटाने,बोर खनन पर लगी प्रतिबंध को हटाने,दलदली क्षेत्र में 83 गांवों में जमीन की खरीद ब्रिक्री पर लगी रोक हटाने,बस्तर क्षेत्र में टाटा कंपनी से किसानों का जमीन वापस दिलाने,तेंदूपत्ता पारिश्रमिक ढाई हजार रूपये प्रति मानक बोरा से बढ़कार चार हजार रूपये किया गया है।मोहम्मद अकबर ने लोगों को महाशिरात्रि की बधाई एवं शुभकामनाएं दी।पंडरिया विधायक श्रीमती ममता चन्द्राकर ने कहा कि मुख्यमंत्री किसानों के हित में प्राथमिकता से काम कर रहे है।वे अपने सभी वादे पूरा कर रहे है, मुख्यमंत्री के नेतृत्व में छत्तीसगढ़ में समरसता आएगी।समारोह को पूर्व विधायक श्री योगेश्वर राज सिंह,कुर्मी समाज के संरक्षक श्री लाल जी चन्द्रवंशी एवं जिला अध्यक्ष श्री नंदलाल चन्द्राकर तथा रामकृष्ण साहू ने भी सम्बोधित किया।इस अवसर पर कलेक्टर अवनीश कुमार शरण, पुलिस अधीक्षक डॉ. लाल उमेद सिंह,वनमंडलाधिकारी श्री दिलराज प्रभाकर,जिला पंचायत के सीईओ श्री कुंदन कुमार,अपर कलेक्टर श्री जे.के. ध्रुव अनुविभागीय अधिकारी राजस्व पंडरिया श्री प्रकाश टंडन एवं जनपद पंचायत सीईओ श्री नवीन भट्ट सहित अनेक अधिकारी,जनप्रतिनिधि एवं ग्रामीण उपस्थित थे। आभार प्रदर्शन श्री लालबहादुर चन्द्रवंशी एंव मंच संचालन श्री अवधेश ननंद श्रीवास्तव ने किया।

*जब उद्घोषक अवधेशनन्दन ने वाहवाही बटोरी*

किसान सम्मेलन और सम्मान समारोह के दौरान अवधेशनन्दन श्रीवास्तव ने मंच संचालन की अपनी अनूठी शैली से खूब वाहवाही बटोरी।उन्होंने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को उद्बोधन के लिये आमंत्रित करते समय जब एक श्लोक का उद्धरण देते हुए बताया कि जब गोमाता की रक्षा होगी तभी यह पृथ्वी बचेगी और मुख्यमंत्री ने इस शास्त्रीय सन्देश का समादर करते हुए नरवा,गरुवा,घुरूवा,बाड़ी योजना के माध्यम से गोमाता की रक्षा का संकल्प लिया है।तब इसे सुनकर श्रोताओं ने खूब तालियां बजाईं एवम मंच पर बैठे अतिथि गण भी मुस्कुराये बिना नही रह सके।अवधेशनन्दन श्रीवास्तव वर्तमान में राजीवगांधी शिक्षा मिशन मे सहायक जिला परियोजना समन्वयक के पद पर कार्यरत हैं।
रिपोर्ट-अरविन्द तिवारी