अवैध बालू खनन रोकने गए पुलिस टीम पर हमला,मालीक समेत 26 नाविकों पर प्राथमिकी दर्ज

छपरा- छपरा में अवैध बालू खनन करने वाले माफियाओं के खिलाफ अक्सर पुलिस की छापेमारी होती रहती है.उसी क्रम मे डोरीगंज थाना क्षेत्र के महुआ घाट पर अवैध बालू खनन करने वाले बालू माफियाओं के खिलाफ कार्रवाई करने पहुंची पुलिस पर बालू माफियाओं ने हमला कर दिया. अचानक हुए इस हमले में डोरीगंज थानाध्यक्ष और एक सैप जवान गंभीर रूप से जख्मी हो गए.इतना ही नहीं हमलावरों ने पकड़ी गयी नांव भी पुलिस से छुड़ा ली.
मिली जानकारी के अनुसार शुक्रवार की सुबह अवैध बालू खनन को लेकर सारण एसपी हरकिशोर राय के नेतृत्व में डोरीगंज थाना पुलिस ने छापेमारी की.इसमें महुआ घाट से बालू लदी दो नावों को पकड़ा गया और इसे तिवारी घाट स्थित कैंप ले जाया जा रहा था.तभी अचानक कुछ असामाजिक तत्वों ने हमला बोल दिया.
असामाजिक तत्वों ने लाठी डंडे,ईट और पत्थर से पुलिस पदाधिकारियों पर हमला बोल दिया.इसमें डोरीगंज थानाध्यक्ष ओमप्रकाश चौहान और सैप नम्बर 34/15 देवेन्द्र कुमार मिश्रा गंभीर रूप से घायल हो गए. थानाध्यक्ष और सैप जवान का सिर फट गया है.उन्हें कई अन्य जगहों पर भी काफी चोट लगी है.डोरीगंज थानाध्यक्ष ने बताया कि शुक्रवार की सुबह करीब 7 बजे एसपी साहब के नेतृत्व में छापेमारी करने गए थे. इसी बीच उपद्रवी तत्वों ने एकाएक हमला बोल दिया. थानाध्यक्ष ने बताया कि हमलावर करीब सौ से डेढ़ सौ की संख्या में थे.उन्होने लाठी, डंडा,ईंट पत्थर से हमला कर दिया.उन्होंने बताया कि उपद्रवीयों की पहचान की जा रही है और उन पर सरकारी काम  में बाधा डालने,जान से मारने की नीयत से पुलिस पर हमला करने और जबरन जब्त नाव को छुड़ा कर ले जाने को लेकर प्राथमिकी दर्ज की गई है.
इस मामले मे जिला खनन पदाधिकारी जय प्रकाश सिंह द्वारा डोरीगंज थाना में अवैध खनन को लेकर डोरीगंज थाना में बालू लदा एक जब्त नाव व मालिक समेत पकड़े गए 26 नाविकों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करायी गयी है. उन्हें जेल भेज दिया गया है. आपको बता दे की नदियों से बालू खनन पर एनजीटी के आदेशानुसार तीन माह तक यानी जुलाई से सितम्बर तक रोक लगाई गई है.

Team Report