अंतर्राष्ट्रीय बाल रक्षा दिवस पर चाइल्ड ट्रैफिकिंग से बचाव के उपाय-पटना-

पटना-अंतर्राष्ट्रीय बाल रक्षा दिवस (1 जून) को मनाया जाता है.इस अवसर पर संकुल संसाधन केंद्र,मध्य विद्यालय रमना,गुलजारबाग,पटना में समर कैंप में भाग ले रहे बच्चों को समन्वयक सूर्य कान्त गुप्ता के द्वारा चाइल्ड ट्रैफिकिंग (बच्चों के अवैध व्यापार) से बचाव के लिए जागरूक किया गया।श्री गुप्ता ने बताया कि बिहार राज्य में लगातार चाइल्ड ट्रैफिकिंग की घटनाएं घट रही हैं। बच्चे सॉफ्ट टारगेट हैं। इन्हें अपहरण कर,खरीदकर, बहला-फुसलाकर,काम लगाने के नाम पर ले जाया जाता है, फिर इन्हें चोरी,भिक्षावृत्ति, वेश्यावृत्ति,तस्करी आदी अन्य अवैध कार्यों में लगा दिया जाता है या अवैध फैक्ट्रियों में 20-20 घंटे काम लिया जाता है। इससे बचने हेतु बच्चों को जागरूक किया जाना बेहद जरूरी है।

श्री गुप्ता ने समर कैंप में शामिल बच्चों को जागरूक करते हुए बताया कि अनजान व्यक्तियों के संपर्क में नहीं आएं। उनके साथ कहीं नहीं जाएं। उनका दिया हुआ कोई भी सामग्री नहीं खाएं। खाने में बेहोशी की दवा हो सकती है। वह आपको ले भागेंगे।आपको बेच देंगे। आपकी आंखें फोड़ कर, हाथ-पैर काट कर भीख मंगवाएंगे।चोरी करने को कहेंगे। शराब,भांग,गांजा,हीरोइन, अफीम आदि की तस्करी करवाएंगे।आप का यौन शोषण करेंगे तथा वेश्यालय में भी बेच देंगे।आप के अंगों को निकाल कर बेच देंगे तथा आपको मार देंगे। आजकल माता-पिता एवं अभिभावकों को बहला-फुसलाकर अच्छी कमाई का झांसा देकर कुछ हजार रूपया एडवांस में दे कर, बच्चों को दूसरे राज्यों में ले जाया जा रहा है। बच्चों से वहां गलत काम कराया जाता है। जानवरों की भांति रखा जाता है। 20-20 घंटे काम कराया जाता है। अगर आप के आस-पास कोई बच्चा को संदिग्ध हाल मे ले जाता नजर आए तो तुरंत पुलिस को फोन करें,अगल-बगल के सामाजिक कार्यकर्ता को सूचित करें तथा 1098 (दस नौ आठ) पर डायल करें। आप अपनी सुरक्षा,इन बातों को ध्यान में रखकर खुद करें तथा दूसरे बच्चों एवं उनके माता-पिता अभिभावकों,पड़ोसी,रिश्तेदारों आदि को भी जागरूक करें। मौके पर प्रथम संस्था के प्रशिक्षक सुनीता कुमारी, अभिमन्यु कुमार, बिहार अराजपत्रित प्रारंभिक शिक्षक संघ के नेता मणिकांत सिन्हा ने भी बच्चों को ट्रैफिकिंग से बचने के उपाय बताये।


रिपोर्ट-अरूण कुमार